Home बिहार नयाबाजार में लोगों की नहीं हुई स्क्रीनिंग

नयाबाजार में लोगों की नहीं हुई स्क्रीनिंग

1 second read
0
0
32

भागलपुर ।  नयाबाजार के कई मोहल्ले को सील किया गया है, लेकिन किसी भी व्यक्ति की स्क्रीनिंग नहीं की गई है। दरअसल, दो दिन पूर्व नवगछिया अनुमंडलीय अस्पताल का एक कर्मचारी भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। उसका घर और ससुराल नयाबाजार में है।

दूसरी तरफ वार्ड 18 की पार्षद ने उप नगर आयुक्त से मोहल्ले की सफाई करवाने की मांग कर चुकी हैं। उन्होंने कहा कि यहां रहने वाले लोगों की स्क्रीनिंग भी की जा रही है। इससे लोगों में आक्रोश है।

उप नगर आयुक्त ने बताया कि अभी मोहल्ले को सील किया गया है, इसलिए सफाई नहीं हो पा रही है। वहीं, सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिंह ने कहा कि जो कर्मचारी में कोरोना पॉजिटिव मिला, उसकी पत्नी और बच्चे के सैंपल लिए गए हैं। घर में काम करने वाली दाई का भी सैंपल रविवार को लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि 10 दिन पहले वहां के लोगों का सर्वे किया गया है, स्क्रीनिंग भी की जाएगी।

रविवार को कोरोना वायरस से संक्रमित इलाके के लोगों ने नाराजगी व्‍यक्‍त करते हुए, जिले के वरीय अधिकारियों को फोन किया है। ऐसे लोगों ने आरोप है कि जिस इलाके में कोरोना वायरस से संक्रमित लोग मिले हैं, वहां अन्‍य लोगों की जांच नहीं की गई है।

दिल्ली और हैदराबाद से आए थे चारों प्रवासी

जिन चार प्रवासियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उनमें से एक हैदराबाद और तीन अन्य दिल्ली से आए थे। प्रशासन अब यह पता लगा रहा है कि इनके संपर्क में कौन-कौन से लोग आए थे। 

जानकारी के अनुसार कहलगांव अनुमंडल की एकडारा पंचायत में एक, सनोखर पंचायत में एक और बोरा पाठकडीह पंचायत के दो प्रवासियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। एकडारा के प्रवासी शारदा पाठशाला क्वारंटाइन सेंटर में एवं बोरा पाठकडीह और सनोखर के तीनों प्रवासियों को अरार क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था।

एकडारा का 23 वर्षीय प्रवासी हैदराबाद से आया था। इन लोगों को पहले अनुमंडल अस्पताल थर्मल स्क्रीनिंग के लिए ले जाया गया था, लेकिन वहां स्क्रीनिंग नहीं होने पर शारदा पाठशाला क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। यह जानकारी गांव के पूर्व मुखिया प्रतिनिधि मो. नवाब ने दी। इन प्रवासियों को गांव में प्रवेश नहीं करने दिया गया था। सनोखर एवं बोरा पाठकडीह पंचायत के तीनों प्रवासी दिल्ली से आए थे। बोरा पाठकडीह के दोनों प्रवासी एक रात गांव के स्कूल में रुके थे। 12 मई को तीनों को अरार क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। 13 मई को जांच के लिए शारदा पाठशाला ले जाया गया था। 

अनुमंडल अस्पताल के प्रभारी उपाधीक्षक डॉ. लखन मुर्मू ने बताया की चारों के संपर्क में कौन-कौन लोग आए हैं, यह जानकारी ली जा रही है। संपर्क में आने वालों का भी सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। अनुमंडल पदाधिकारी सुजय कुमार ङ्क्षसह ने कहा कि चारों प्रवासी क्वारंटाइन सेंटर में थे। जिला मुख्यालय से आदेश मिलते ही क्षेत्र को सील किया जाएगा। सभी को भागलपुर भेज दिया गया है।

Load More By Bihar Desk
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …