Home सियासत अप्रवासियों को लेकर राबड़ी का नीतीश पर हमला, लालू बोले- पंक्‍चर हो गई सरकार

अप्रवासियों को लेकर राबड़ी का नीतीश पर हमला, लालू बोले- पंक्‍चर हो गई सरकार

14 second read
0
0
141

पटना। कोरोना संक्रमण के कारण जारी लॉकडाउन में जगह-जगह फंसे अप्रवासी श्रमिकों की घर वापसी हो रही है। बिहार के बाहर फंसे व बिहार पहुंचे अप्रवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसे लेकर राजनीति तेज है। इस सिलसिले में सत्‍ता पक्ष के विपक्ष पर हमले का पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी तथा उनके पति व राष्‍ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने जवाब दिया है। लालू ने नीतीश सरकार को पंक्‍चर सरकार बताया है तो राबड़ी देवी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी पर हमला करते हुए उन्‍होंने कहा है कि उन्‍हें हर समस्या का समाधान विपक्ष से ही चाहिए तो सरकार किसलिए है?

लालू का ट्वीट: बंद करो सुशासनी झूठ की दुकान

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने शायराना अंदाज में ट्वीट कर नीतीश कुमार की सरकार पर हमला बाेला है। उन्‍होंने नीतीश कुमार की सरकार को 15 साल की पंक्चर सरकार बताया है। साथ ही इसे गरीबों व मजदूरों का दुश्मन बताया है। उन्‍होंने आगे लिखा है कि यह सरकार विकास में बंजर है तथा इसने बिहार को बर्बाद कर दिया है। इस सरकार के काल में नौनिहाल बिलख रहे तो मजदूर तड़प व किसान मर रहे हैं। लालू ने आगे नीतीश सरकार को डबल इंजन सरकार बताते हुए उससे सुशासनी झूठ की दुकान बंद करने को कहा है।

राबड़ी का आरोप: सरकार खुद को बता रही संसाधनहीन

उधर, राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में कहा कि राज्य सरकार कहती है कि विपक्ष ही कोरोना मरीजों की टेस्टिंग करवाए। अस्पताल बनवाए, सुरक्षा किट उपलब्ध कराए, टेस्टिंग किट और वेंटिलेटर लेकर आए। बाहर फंसे छात्रों और अप्रवासी कामगारों को वापस लेकर आए। आप्रवासियों के लिए बस और ट्रेन चलवाए और किराया दे, क्योंकि सरकार संसाधनहीन है।

सरकार कह रही हम आ्रपवासियों के लिए सारे प्रबंध

राबड़ी ने तंज कसा कि सरकार यह भी कहती है कि विपक्ष ही क्वारंटाइन केंद्रों में श्रमिकों के भोजन का प्रबंध करे। उन्हें मेवा खिलाए, राशन दे, किसानों को मुआवजा दे, पलायन रोके, हेल्पलाइन नंबर जारी कर लोगों की मदद करे और लॉकडाउन का पालन कर जनता को जागरूक, सतर्क और सावधान करे।

कर्तव्‍य का पालन करने के बदले कर रहे चुनावी तैयारी

राबड़ी ने आगे कहा कि सत्ताधारी दल व सरकार अपने कर्तव्यों के पालन को लेकर लापरवाह हैं। सत्‍ताधारी दल कर्तव्‍यों का पालन न कर सरकारी संसाधनों का दुरुपयोग कर रहे हैं। वे पीडि़तों की मदद करने के बदले अपनी पार्टी के जिलाध्यक्षों और विधायकों के साथ मिलकर चुनावी तैयारी कर रहे हैं।

Load More By Bihar Desk
Load More In सियासत

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …