Home झारखंड सूरत से 1198 श्रमिकों के धनबाद पहुंचने पर गुलाब फूल देकर किया स्वागत:धनबाद

सूरत से 1198 श्रमिकों के धनबाद पहुंचने पर गुलाब फूल देकर किया स्वागत:धनबाद

3 second read
0
0
125

लॉकडाउन में गुजरात के सूरत में फंसे 1198 श्रमिकों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन संख्या 09343 गुरुवार की सुबह धनबाद पहुंची। सुबह  3.45 बजे धनबाद स्टेशन पर पहुंचने पर श्रमिकों को बोगियों से उतारने के बाद गुलाब फूल देकर स्वगात किया गया। सभी की थर्मल स्क्रीनिंग और जांच के बाद बसों से अपने-अपने घर भेज गया। ट्रेन में बड़ी संख्या में श्रमिकों के परिजन और बच्चे भी आए। दो दिनों में सूरत से आनेवाली यह दूसरी ट्रेन है। स्वास्थ्य विभाग की जानकारी के मुताबिक सभी श्रमिकों का तापमान सामान्य मिला। स्टेशन पर डीसी अमित कुमार, एसएसपी बी अखिलेश वारियर सहित जिले के तमाम आला अधिकारी मौजूद थे।

ट्रेन 5 मई की रात 12.30 बजे सूरत से चली थी। ट्रेन ने 27 घंटे 15 मिनट का सफर तय कर 7 मई की सुबह 3.45 बजे धनबाद पहुंची।

यात्रियों को स्टेशन पर बोगियों से उतरने से लेकर बाहर ले जाने तक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। ट्रेन के धनबाद स्टेशन पहुंचते ही ट्रेन के सबसे आगे व सबसे पीछे की बोगी से यात्रियों को बाहर निकालना शुरू किया गया। सुरक्षाकर्मियों ने हर यात्री का नाम नोट किया और शारीरिक दूरी का पालन कराते हुए उन्हें निकास द्वार की ओर रवाना किया।  प्रवासी श्रमिकों का सहयोग एवं मार्गदर्शन के लिए पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बल प्लेटफार्म पर तैनात थे।निकास द्वार पर हर यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। सेनेटाइजर से हैंड वॉश का इस्तेमाल कर सभी को मास्क दिया गया। गुलाब फूल देकर स्वागत किया गया। अंतिम काउंटर से फूड पैकेट और पानी देकर उन्हें संबंधित जिले की बस में बैठाया गया। श्रमिकों को उनके संबंधित जिले तक पहुंचाने के  लिए 46 बड़ी बस, एक छोटी बस तथा 9 छोटे वाहन का प्रबंध किया गया था।स्टेशन से बाहर निकलने पर सूरत से वापस लौटने वाले कोमल सिंह, अजय विश्वकर्मा, आनंद पंडित, पप्पू साव ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तथा धनबाद जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के बाद जब उन्हें जानकारी मिली कि मुख्यमंत्री की पहल पर सूरत में फंसे श्रमिकों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी तब उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। सफर में कोई परेशानी नहीं हुई।   बताया कि सफर के दौरान उनके खाने पीने की व्यवस्था की गई थी। ट्रेन में शारिरिक दूरी का पालन किया गया। 27 घंटे के सफर में  परेशानी नहीं हुई।धनबाद रेलवे स्टेशन पर उप विकास आयुक्त श्बाल किशुन मुंडा, सिटी एसपी आर रामकुमार, अपर समाहर्ता आपूर्ति  संदीप कुमार दोराईबुरू, अपर समाहर्ता श्याम नारायण राम, अपर जिला दंडाधिकारी विधि – व्यवस्था अनिल कुमार, अनुमंडल दंडाधिकारी राज महेश्वरम, पुलिस उपाधीक्षक विधि – व्यवस्था  मुकेश कुमार, निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण  संजय कुमार भगत, जिला आपूर्ति पदाधिकारी भोगेंद्र ठाकुर, जिला योजना पदाधिकारी  महेश भगत, एनडीसी अनुज बांडो व अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।रेलवे स्टेशन पर सूरत से आने वाले श्रमिकों की स्वास्थ्य जांच करने के लिए 2 टीम बनाई गई थी। मेडिकल टीम में सिविल सर्जन डॉ गोपाल दास, डॉ एसएम जफरुल्लाह,  डॉ ऋतु राज, डॉ विजेंद्र, डॉ अजय नारायण सिंह, डॉ अमिताभ त्रिगुनायक, डॉ दीपक प्रकाश, डॉ प्रियंका श्रीवास्तव, हेल्थ वर्कर प्रिया कुमारी, सरस्वती दास, विनायक मंडल, साबिर अंसारी, सुनील कुमार, एयनुल अंसारी, संजय कुमार, राजेंद्र कुमार, अनूप दास, मोहम्मद चांद तथा नारायण चंद्र उपस्थित थे।

किस जिले के कितने श्रमिक
गिरिडीह –  1094
देवघर -7
कोडरमा – 30
हजारीबाग – 11
जामताड़ा -1
सिमडेगा-1
सरायकेला – 1
पलामू – 29
लातेहार -3,
गढ़वा – 2
चतरा – 5

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …