Home बिहार घर-घर किया जा रहा सर्वे, पांच दिनों से नहीं मिला एक भी संक्रमित

घर-घर किया जा रहा सर्वे, पांच दिनों से नहीं मिला एक भी संक्रमित

1 second read
0
0
110

पटना। राजधानी के लिए राहत भरी खबर है। पांच दिनों से यहां एक भी नया कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। इस क्रम को जारी रखने के लिए स्लम बस्तियों में स्क्रीनिंग और घर-घर सर्वे का कार्य और तेज कर दिया गया है। रेड जोन घोषित पटना में कुल संक्रमितों की संख्या 44 हो गई है। इनमें से 13 कोरोना को मात देकर होम क्वारंटाइन में हैं।

दीघा, फुलवारी व सिटी प्रतिबंध से मुक्त

सिविल सर्जन डॉ. राजकिशोर चौधरी ने बताया कि कंटेनमेंट जोन में भी कमी की जा रही है। दीघा और फुलवारीशरीफ का वभनपुरा गांव प्रतिबंधमुक्त हो चुका है। पटनासिटी का सुल्तानगंज इलाका भी कंटेनेमंट जोन से बाहर हो गया है। दानापुर, पटनासिटी, फुलवारीशरीफ, पटेलनगर और बिचली गली आदि क्षेत्र भी जल्द कंटेनमेंट क्षेत्र से मुक्त होंगे।

स्लम बस्तियों के बच्चे बढ़ा रहे खतरा, तोड़ रहे लॉकडाउन

सिविल सर्जन ने बताया कि स्लम बस्तियों के कारण खाजपुरा और आसपास के इलाके में परेशानी बढ़ रही है। वे माता-पिता की नहीं सुन रहे हैं। वहीं पुलिस भी बच्चों पर सख्ती नहीं कर पा रही है। बच्चों को भी कोरोना का खतरा है, यह बात अब सर्वे टीम से उनके अभिभावकों को समझाने के लिए कहा गया है। सोमवार को लिए गए दस सैंपल सोमवार को संक्रमितों के संपर्क में आए व अन्य दस आशंकितों के नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। अभी पटना के 39 नमूनों की जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके बाद स्थिति स्पष्ट होगी। अब तक पटना में कुल 1755 आशंकित लोगों की जांच कराई गई है।

आज कोटा से लौटेंगे छात्र, थानों से रिसीव करेंगे अभिभावक

कोट से छात्रों को लेकर दानापुर पहुंचने वाली पहली ट्रेन मंगलवार को दोपहर बाद आएगी। इस ट्रेन से बड़ी संख्या में पटना के छात्रों के भी आने की संभावना है। दानापुर में सभी छात्रों की स्क्रीनिंग की जाएगी। इसके बाद सभी को संबंधित थाना में भेजा जाएगा। अगर कोई अभिभावक बच्चे को अपने निजी वाहन द्वारा लेकर जाना चाहते हैं तो वे संबंधित थानाध्यक्ष से संपर्क कर सकते हैं। अगर कोई निजी वाहन नहीं है तो संबंधित थानाध्यक्ष की जिम्मेवारी होगी कि छात्र को गंतव्य तक पहुंचाया जाए। जिलाधिकारी कुमार रवि ने कहा कि किसी भी निजी वाहन को दानापुर स्टेशन आने की अनुमति नहीं है। छात्रों को होम क्वारंटाइन की इजाजत होगी, पर क्वारंटाइन नियमों का पालन करना होगा। पटना जिला छोड़कर अन्य जिला के छात्रों को बस से उनके जिले में भेजने की व्यवस्था है।

पीएमसीएच में 23 आशंकित आइसोलेशन वार्ड में भर्ती

पीएमसीएच में सोमवार देरशाम तक 23 आशंकित लोग आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे। इसमें से सात नए लोग हैं। इन सभी के नमूने लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। वहीं 142 नमूनों की जांच की गई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव रही। देररात तक 38 नमूनों की जांच जारी थी।

Load More By Bihar Desk
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …