Home बिहार पटना 24 घंटे में कोरोना से दो मौतें, मुंबई से संक्रमित होकर लौटे थे बिहार

24 घंटे में कोरोना से दो मौतें, मुंबई से संक्रमित होकर लौटे थे बिहार

1 second read
0
0
162

पटना। कोरोना ने 24 घंटे के अंदर दो जिंदगियां निगल लीं। एक ने शुक्रवार को दम तोड़ा जबकि दूसरे की मौत शनिवार को हुई। नालंदा मेडिकल कॉलेज में भर्ती दोनों संक्रमित पहले से ही कैंसर से जंग लड़ रहे थे। इलाज के दौरान 24 घंटे में दो मौतों से हड़कंप मच गया। हालांकि प्रदेश में अब तक इस महामारी से चार लोग असमय काल के गाल में समा गए हैं, लेकिन पहली बार नालंदा मेडिकल कॉलेज में मौत हुई है। इसके पूर्व मुंगेर और वैशाली के संक्रमितों की मौत पटना एम्स में हुई थी।

शनिवार को एनएमसीएच में दहशत का माहौल था। आइसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीजों के साथ उनके परिजनों की सांसें भी अटकी हुईं थीं। हालांकि दोनों मौतों को लेकर अस्पताल प्रशासन का कहना है कि कैंसर सेपीड़ित होने के कारण दोनों कमजोर हो गए थे। अधीक्षक डॉ. निर्मल कुमार सिन्हा का कहना है कि कैंसर पर कोरोना का संक्रमण जानलेवा हो गया।

पटना में दफनाया गया सुहैल 

शुक्रवार को कोरोना से हुई रहुल्ला हुसैन की मौत के बाद शव को पूर्वी चंपारण प्रशासन को सौंप दिया गया। पैतृक जिले में उनका अंतिम संस्कार पूरी सावधानी के साथ किया गया। वहीं शनिवार को सीतामढ़ी के सुहैल की मौत के बाद परिजनों के कहने पर शव को पटना में काफी सावधानी के साथ दफना दिया गया है। शव को दफनाने के दौरान सभी पीपीई किट में थे। शव को दोपहर बाद एनएमसीएच से निकाला गया । मौत की सूचना के बाद प्रशासन ने अंतिम संस्कार की तैयारी की और संक्रमण का फैलाव नहीं होने पाए इसके लिए विशेष एहतियात बरती गई।

पत्नी के सामने पति का निकला जनाजा

सीतामढ़ी के सुहैल लॉकडाउन में मुम्बई से बिहार आए। खुद तो संक्रमित थे, पत्नी को भी वायरस की चपेट में ला दिया। दोनों एनएमसीएच के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे। शनिवार को सुहैल की पत्नी पर कोरोना से भारी पति की मौत पड़ी। वह वार्ड में ही थी लेकिन पति को आखिरी बार भी नहीं देख पाई। पति की मौत की खबर के बाद वह वार्ड में बदहवाश हो गई। आंखों के सामने अंधेरा छा गया। वह समझ नहीं पा रही थीं कि अचानक से हंसती खेलती दुनिया कैसे उजड़ गई। आंखों में आंसू सूख गए थे। बार-बार एक ही बात कह रही थी, कि एक बार तो मुझे उनसे मिला दो।

रेड जोन में आया पटना 

लॉकडाउन को कुछ रियायतों के साथ 17 मई तक बढ़ा दिया गया है। शहरों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांटा गया है। पटना में संक्रमितों की संख्या 44 है, जिससे इसे रेड जोन में रखा गया है। इस कारण यहां साइकिल, रिक्शा, ऑटो रिक्शा, टैक्सी और कैब के संचालन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। रेड जोन में नाई की दुकान,स्पा और ब्यूटी पार्लर भी बंद रहेंगे। चारपहिया वाहनों में चालक के अलावा अधिकतम दो लोग यात्रा कर सकते हैं। दो पहिया पर चालक के अलावा कोई सवारी नहीं होगी। 

24 घंटे में कोरोना से संक्रमित दो मरीजों की मौत हुई है। दोनों कैंसर से पीड़ित थे और उस पर कोरोना का संक्रमण होने से दोनों के अंग फेल होने लगे थे। दोनों की हालत काफी बिगड़ गई थी, जिससे उन्हें बचाया नहीं जा सका।
-संजय कुमार, प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग

Load More By Bihar Desk
Load More In पटना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …