Home बिहार बिहार में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, एक दिन में 69 मरीज, आंकड़ा हुआ 346

बिहार में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, एक दिन में 69 मरीज, आंकड़ा हुआ 346

23 second read
0
0
178

पटना । बिहार में कोरोना का प्रकोप हर रोज रफ्तार पकड़ रहा है। सोमवार को इस महामारी की चपेट में तीन और जिले मधुबनी, दरभंगा और पूर्णिया भी आ गए।  राज्य में एक दिन में कुल 69 संक्रमित मिले हैं। इसके पूर्व 25 अप्रैल को एक दिन में 56 संक्रमित मिले थे। 68 और संक्रमित मिलने के बाद राज्य में इनकी कुल संख्या 346 हो गई है। 

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि सोमवार को सर्वाधिक संक्रमित मुंगेर और रोहतास से मिले हैं। मुंगेर से आज कुल 22 और रोहतास से 16 संक्रमित की जानकारी मिली है। संजय कुमार ने बताया कि सोमवार को पटना से छह संक्रमित मिले हैं।  

प्रधान सचिव ने बताया कि आज तीन नए जिलों में कोरोना का असर पहुंचा है। ये जिले हैं दरभंगा, पूॢणया और मधुबनी। उन्होंने बताया मधुबनी से पांच, दरभंगा और पूॢणया से एक-एक संक्रमित मिले हैं। इन लोगों की कांटेक्ट हिस्ट्री और ये कोरोना की चपेट में कैसे आए इसका विवरण जिलों से प्राप्त किया जा रहा है। सोमवार को ही भोजपुर से सात और औैरंगाबाद से पांच संक्रमित मिले हैं। इन दोनों जिलों में पूर्व में भी संक्रमित मिले हैं। हो सकता है यह उन्हीं की चेन हों। प्रधान सचिव ने कहा इनकी हिस्ट्री पता की जा रही है। 

संजय कुमार ने बताया कि इन जिलों के अलावा सोमवार को सारण से एक, नवादा से एक और लखीसराय से तीन पॉजिटिव मिले हैं। लखीसराय में काफी दिनों बाद कोई संक्रमित मिला है। इसके पूर्व यहां से एक और पॉजिटिव मिला चुका है। उन्होंने बताया कि आज कुल 68 पॉजिटिव मिले हैं। जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 345 हो गई है। 

बिहार के कोरोना प्रभावित जिले व संक्रमित एक नजर में

सिवान  30,  नालंदा  35,  मुंगेर  90,  बेगूसराय  9,  पटना  39,  गया  6,  बक्सर  25,  गोपालगंज  12,  नवादा  4,  सारण  4,  लखीसराय  4,  भागलपुर 5,  वैशाली  2, भोजपुर  9, रोहतास  31  और पूर्वी चंपारण  5, बांका  2, कैमूर 14, मधेपुरा 1, औरंगाबाद 7, अरवल 4, जहानाबाद 1, मधुबनी 5, दरभंगा 1, पूर्णिया 1, कुल संख्या 345

मुंगेर के जमालपुर में सबसे ज्यादा मरीज कोरोना संक्रमित

मुंगेर जिले के जमालपुर में बिहार के अबतक के सबसे ज्यादा मरीज मिले हैं। बिहार के मुंगेर जिले में 15 अप्रैल को शुरू हुआ COVID-19  का कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है। एक बार कोरोना मरीज मिलने के बाद एक बार जो चेन बनी थी वो चेन टूट जाने के बाद फिर एक नई चेन बन गई है जिसे तोड़ने के लिए प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग परेशान है और ये लंबी चेन बनती जा रही है। 

Load More By Bihar Desk
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …