Home देश कोरोना वार्ड में बच्चे डरे तो डॉक्टर खेलने लगे अंताक्षरी और तंबोला, इसका नतीजा है कि अब बच्चे खुश और स्वस्थ हैं

कोरोना वार्ड में बच्चे डरे तो डॉक्टर खेलने लगे अंताक्षरी और तंबोला, इसका नतीजा है कि अब बच्चे खुश और स्वस्थ हैं

0 second read
0
0
222

आरएनटी मेडिकल कॉलेज उदयपुर के महाराणा भूपाल चिकित्सालय की सुपर स्पेशियलिटी विंग के कोरोना पॉजिटिव वार्ड में कुशलगढ़, बांसवाड़ा के 2 से 13 साल के 10 संक्रमित बच्चे भर्ती हैं। इनमें 2, 4 और 5 साल की तीन बच्चियां, 6 से 13 साल के 5 बच्चे और 2 बच्चियां शामिल हैं।

इन बच्चों को जब कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया तो ये रोने लगे, क्योंकि इन्हें परिजनों से भी नहीं मिलने दिया गया। ये बच्चे इतने घबरा गए थे कि दो दिन तक इन्हें न नींद आई, न खाना खा सके। बच्चे घबराने की वजह से ब्लड प्रेशर, नींद नहीं आने, भूख कम लगने, रोग प्रतिरोधक क्षमता घटने जैसी परेशानियों से भी ग्रसित होने लगे।

अस्पताल अधीक्षक ने कहा- अब बच्चे खुश और स्वस्थ हैं

अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरएल सुमन बताते हैं कि बच्चों को इस दहशत से निकालने के लिए तम्बोला खेलने, अंताक्षरी के साथ पहेली बूझने, ड्रॉइंग के जरिए खुश रख रहे हैं। बच्चों को खुश करने के लिए वार्ड में तैनात डॉक्टर बच्चों के साथ खेलते भी हैं। इसी का नतीजा है कि अब बच्चे खुश और स्वस्थ हैं।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …