Home देश लॉकडाउन में बढ़ गई है साइबर धोखाधड़ी, बचने के उपाय बता रहे हैं एक्सपर्ट्स

लॉकडाउन में बढ़ गई है साइबर धोखाधड़ी, बचने के उपाय बता रहे हैं एक्सपर्ट्स

18 second read
0
0
93

लॉकडाउन के दौरान बीते कुछ समय में साइबर फर्जीवाड़े की घटनाएं बढ़ी हैं। ये घटनाएं सिर्फ आपके लैपटॉप और डेस्कटॉप से ही नहीं हो रही हैं, बल्कि साइबर क्रिमिनल आपके Whatsapp, Facebook, Twitter, Paytm जैसे ऐप को भी निशाना बना रहे हैं। चूंकि इन माध्यमों से वर्क फ्रॉम होम के दौरान गतिविधियां और निर्भरता बढ़ गई है। ऐसे में ये सबसे आसान शिकार बन रहे हैं। आइए जानते हैं कि किन बातों का ख्याल रखकर ऐसी घटनाओं से बचा जा सकता है।

बीते कुछ समय से Zoom को लेकर दिक्कतें आ रही हैं। इसकी प्राइवेसी को लेकर काफी सवाल उठ रहे हैं। सबसे पहली और बड़ी सलाह तो यही है कि Zoom का यूज करने से बचें। अगर इंस्टाल कर रहे हैं तो नोटिफिकेशन और अलॉउ डिटेल्स पर पूरी तरह नजर रखें। अगर इस ऐप को यूज कर रहे हैं तो अपना अकाउंट-पासवर्ड बदल लें और बेहद जटिल पासवर्ड बनाएं। किसी भी अननोन लिंक को ओपन न करें और इस तरह की गतिविधियों से सावधान रहें। यूजर्स Cyble की AmIBreached service या Have I Been Pwned पर जाकर चेक कर सकते हैं कि क्या उनका ईमेल एड्रेस हैक हुआ है या नहीं। वेबकैम जब काम ना आ रहा हो तो उसे इस तरह बंद कीजिए। राउटर के लिए स्ट्रांग पासवर्ड सेट करें। 12 कैरेक्टर्स में अपर केस, लोअर केस लेटर्स, नंबर, सिंबल या शब्द होने चाहिए। Zoom विकल्प देता है कि मीटिंग शुरू होने के बाद उसे लॉक कर सकें, जिससे नए पार्टिसिपेंट्स ग्रुप जॉइन न कर सकें।

अगर आप होस्ट हैं तो Zoom मीटिंग के लिए वेटिंग रूम फीचर ऑन करें। दूसरी तरफ गृह मंत्रालय ने एडवायजरी जारी कर कहा है कि Zoom सुरक्षित प्लेटफॉर्म नहीं है, इसके इस्तेमाल को लेकर सतर्क रहें।

Whatsapp को ऐसे कर रहे हैक

हैकर्स Whatsapp को हैक करने के लिए नई ट्रिक का सहारा ले रहे हैं। हैकर्स इसके लिए आपके फेसबुक या इंस्टाग्राम एप को हैक करते हैं। इससे आपको दोनों एप में लॉगइन करने में असुविधा होती है। इस स्थिति में वह आपसे Whatsapp का सिक्योरिटी कोड मांगता है, जिससे वह Whatsapp हैक कर लेता है। साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल कहते हैं कि कभी किसी से अपना पासवर्ड, सिक्योरिटी कोड और ओटीपी शेयर न करें। इंटरनेट पर या किसी एप पर कोई भी असामान्य गतिविधि होने पर प्रामाणिक वेबसाइट पर ही रिपोर्ट करें। कोई भी सही वेबसाइट आपसे निजी जानकारी नहीं मांगती है। इसलिए अपनी कोई भी प्राइवेट इंर्फोमेशन किसी से शेयर न करें। साइबर विशेषज्ञ कहते हैं कि अकाउंट की सिक्योरिटी के लिए टू-स्टेप वेरीफिकेशन प्रक्रिया को अपनाएं। इससे व्हाट्सएप हैक होने पर आपको ई-मेल तो प्राप्त होती रहेगी। ई-मेल से आप अपने अकाउंट को दोबारा बचा सकते हैं। Whatsapp के अनुसार वह एंड टू एंड इनक्रिप्टेड मैसेज भेजता है, ऐसे में आपके चैट दूसरी डिवाइस में नहीं पढ़े जा सकते हैं।

साइबर एक्सपर्ट का कहना है कि अगर आप अपने Whatsapp अकाउंट का प्रयोग कर रहे हैं और आपको संदेह है कि कोई अन्य डिवाइस से अकाउंट का प्रयोग किया जा रहा है तो आप हर जगह से अपना अकाउंट लॉग आउट कर दें।

एक ही ब्राउजर पर पर्सनल अकाउंट ना करें यूज

घर पर काम के दौरान अपने पर्सनल सोशल मीडिया अकाउंट को उसी ब्राउजर में एक्सेस करने से बचें, जिसमें आप दफ्तर का काम और ईमेल चला रहे हैं। यह उन लोगों के लिए और भी घातक हो सकता है, जो सोशल मीडिया मैनेजर का काम करते हैं।

तस्वीरें न शेयर करें

गलती से भी घर से काम करने के दौरान अपने काम करने की जगह की तस्वीरें शेयर ना करें। कई कंपनियों की पॉलिसी होती है कि वो इसे प्राइवेट रखना चाहती है। अगर आप काम करते हुए तस्वीरें शेयर करते हैं तो आपकी कोई पर्सनल जानकारी लीक होने का डर रहता है। 

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …