Home ताजा खबर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के साइड इफेक्ट पर आईसीएमआर कर रहा है अध्ययन

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के साइड इफेक्ट पर आईसीएमआर कर रहा है अध्ययन

8 second read
0
0
175

शनिवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कोरोना वायरस से लड़ाई में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल के सवाल पर आईसीएमआर के आर गंगाखेड़कर ने विस्तार से इसे समझाया। साथ ही उन्होंने कहा कि इसके साइड इफेक्ट पर भी अध्ययन किया जा रहा है। 
उन्होंने कहा कि कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने स्वयं ही एंटी-मलेरिया दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा ले ली थी, लेकिन इन लोगों में साइड इफेक्ट दिखे हैं। इनमें पेट संबंधी दर्द, उल्टी और कम ब्लड शुगर के लक्षण दिखे हैं। डॉ. रमन गंगाखेड़कर ने कहा कि आईसीएमआर ने इन लोगों पर अध्ययन शुरू किया है।  
 
डॉ. गंगाखेड़कर ने कहा कि इनकी औसत उम्र 35 साल है और इनपर की गई स्टडी में पता चला कि इनमें सबसे सामान्य लक्षण था पेट दर्द। 10 फीसदी लोगों को पेट दर्द हुआ। 6 फीसदी लोगों को उल्टी आने जैसी शिकायत हुई। बाकी लक्षण कम अनुपात में थे। 1.3 फीसदी लोगों को हाइपोग्लाइसीमिया (ब्लग शुगर कम) था।      

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine)

इन स्वास्थ्यकर्मियों में से 22 फीसदी को डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और सांस से जुड़ी बीमारी थी। 14 फीसदी लोगों ने खुद का ईसीजी भी नहीं निकाला था। ध्यान देने की जरूरत है कि स्वास्थ्यकर्मी विभिन्न साइटों से दवाएं ले रहे हैं। उसका असर स्टडी पर होता है। इसीलिए हमें होमोजीनस पॉपुलेशन मिलने में दिक्कत आ रही है जिसकी इसमें खास जरूरत है।
 
उन्होंने कहा कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की स्डटी ऑब्जरवेशनल यानी कोहर्ट है। कोई ट्रायल नहीं कर रहे हैं। क्योंकि ट्रायल के लिए फिलहाल बेस नहीं है। इसमें करीब 480 मरीज शामिल हैं और ये आठ हफ्ते चलेगा। लॉकडाउन का समय है इसलिए ज्यादा वक्त भी लग सकता है। 

Load More By Bihar Desk
Load More In ताजा खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …