Home क्राइम बिहार में जमातियों की तलाश जारी, 40 तब्लीगी जमाती समेत 49 विदेशी गिरफ्तार, हो रही कड़ी पूछताछ

बिहार में जमातियों की तलाश जारी, 40 तब्लीगी जमाती समेत 49 विदेशी गिरफ्तार, हो रही कड़ी पूछताछ

1 second read
0
0
238

दिल्ली स्थित हजरत निजामुद्दीन मरकज से तब्लीगी जमात में शामिल लोग बिहार के विभिन्न मस्जिदों में छुपे हैं जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार किया है, उनके वीजा पासपोर्ट की जांच हो रही है जिसमें कई लोगों को वीजा नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया गया है। उन सबसे कड़ी पूछताछ की जा रही है।

बिहार में 40 तब्लीगी जमाती समेत 49 विदेशियों को मंगलवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। इनके खिलाफ वीजा नियमों का उल्लघंन करते हुए गैरकानूनी ढंग से देश में धर्म प्रचार का आरोप है। इन्हें अदालत में पेश किया जाएगा। सोमवार को पटना में 17 तब्लीगी जमाती विदेशियों को गिरफ्तार किया गया था।

अररिया में घंटों मशक्कत के बाद पुलिस ने अलग-अलग धार्मिक स्थलों से 18 विदेशी नागरिकों को वीजा उल्लंघन के मामले में गिरफ्तार किया है। इनमें से नौ लोगों के ताल्लुकात तब्लीगी जमात से हैं। पकड़े गए विदेशियों में नौ बांग्लादेश, आठ मलेशिया और एक ऑस्ट्रेलिया का नागरिक है।

बक्सर के नया भोजपुर ओपी क्षेत्र की मस्जिद से पकड़े गए तब्लीगी जमात के 14 लोगों में 11 विदेशियों को 14 दिन क्वारंटाइन सेंटर में रखने के बाद जेल भेज दिया है।समस्तीपुर के धर्मपुर मोहल्ले से 14 दिन पूर्व पकड़े गए नौ बांग्लादेशी जमातियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शहर के एक गेस्ट हाउस में क्वारंटाइन का समय पूरा होते ही पुलिस ने यह कार्रवाई की।

किशनगंज में 11 विदेशी नागरिकों को मंगलवार देर शाम को गिरफ्तार कर लिया। तब्लीगी मरकज, निजामुद्दीन से 22 मार्च को 13 सदस्यीय जमात किशनगंज पहुंची। अवध-असम एक्सप्रेस से किशनगंज पहुंची जमात में इंडोनेशिया के 10, मलेशिया के एक और दो भारतीय शामिल हैं। इन लोगों के स्थानीय धार्मिक स्थल पर ठहरने की सूचना पुलिस को नहीं दी गई थी।

बक्सर के एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा ने बताया कि नया भोजपुर मस्जिद में पकड़े गए तब्लीगी जमात के कुल 14 लोगों में तीन मुंबई के निवासी थे। अन्य 11 में चार मलेशिया के और सात इंडोनेशिया के निवासी थे। 28 मार्च को इन सभी को क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया था।अररिया में 21 मार्च को पहुंचे थे 10 विदेशी, एक की मौत हो गई

तब्लीगी जमात के 10 विदेशी 21 मार्च को अररिया पहुंचे थे। पुलिस ने इन्हें एक धार्मिक स्थल में क्वारंटाइन कर दिया था। इसके पहले ही मलेशिया के एक नागरिक की 26 मार्च को मौत हो गई थी। इधर, एक अप्रैल को नरपतगंज के एक धार्मिक स्थल से नौ बांग्लादेशियों को पकड़ा गया। इन्हें भी वहीं क्वारंटाइन कर दिया गया था। ये लोग कुछ बताने के लिए तैयार नहीं हैं।

Load More By Bihar Desk
Load More In क्राइम

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …