Home ताजा खबर करोना वायरस की जांच के लिए अब निजी लैबों को भी दी जाएगी इजाजत

करोना वायरस की जांच के लिए अब निजी लैबों को भी दी जाएगी इजाजत

1 second read
Comments Off on करोना वायरस की जांच के लिए अब निजी लैबों को भी दी जाएगी इजाजत
0
134

भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है, जो काफी चिंताजनक विषय है, इस संक्रमण पर जल्द से जल्द काबू नहीं पाया गया तो यह और भी फैल सकता है, जैसे कि चीन, फ्रांस, इटली और बाकी के देशों में हुआ। इस वक्त ताजा संक्रमण की बात करे तो दस और नए मामले सामने आए हैं।

बुधवार सुबह कोरोना वायरस से संक्रमित 10 लोग और पाए गए, जिसके बाद देश में कोरोना पॉजिटिव केसों की संख्या 148 पहुंच गई है। इनमें से 123 भारतीय हैं और जबकि 25 विदेशी। वहीं, 148 में से अबतक सिर्फ 14 लोग ही ठीक हुए हैं जबकि 3 लोगों की मौत हो गई है। वहीं, कोरोना को लेकर भीरतीय चिकित्सा शोध परिषद (ICMR) के प्रमुख बलराम भार्गव ने कहा है कि कोरोना वायरस के देश में फैलने के हालात अभी दूसरे चरण पर हैं, लेकिय यदि हम हर मोर्चे पर सख्ती बरतें तो तीसरे चरण में प्रवेश करने से इस रोका जा सकता है।

इससे बचने के लिए सरकार के सख्त उपायों की भूमिका अहम है। यह इस बात पर निर्भर करेगा कि हम कितनी सख्ती से अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को बंद रख पाते हैं और सरकार ने इस दिशा में कितनी सक्रियता से काम किया है। कोरोना के वायरस के फैलने के चार चरण होते हैं। तीसरा चरण सामुदायिक संक्रमण को बताता है। उन्होंने कहा कि बीते 14 दिनों में विदेश की यात्रा करने वाले ऐसे लोग मरीज, जिनमें लक्षण तो नहीं हैं लेकिन अगर उनमें कोई लक्षण विकसित होता है तो उन्हें अवश्य ही जांच करानी चाहिए।

बलराम भार्गव ने यह भी कहा कि, करोना वायरस की जांच के लिए निजी लैबों को भी इजाजत दी जाएगी, इस दिशा में प्रयास किया जा रहे है कि एनएबीएल से मान्यता प्राप्त लैबों को इस काम की अनुमति मिल जाए। उन्होंने कहा कि, वह सभी प्राइवेट लैब वालों से अनुरोध करते हैं कि रोग का पता लगाने के काम की फीस नहीं ली जाए। बताते चलें कि, इस वायरस को लेकर फिलहाल केवल सरकारी लैब को ही जांच करने की अनुमति है। कहा जा रहा है कि, मान्यता प्राप्त 60 लैबों को जांच की इजाजत मिल सकती है।

उन्होंने आगे कहा कि, परिषद दो उच्च क्षमता वाली प्रणाली को चालू कर रहा है, ये लैब तेजी से जांच करने की क्षमता से युक्त होंगी। इन्हें दो जगहों पर लगाया जा रहा है और इनमें 1400 नमूनों की रोजाना जांच हो सकेगी। ये इस सप्ताह के अंत तक काम करना शुरू कर देंगी। अभी सरकारी क्षेत्र में 72 आईसीएमआर लैब उपलब्ध हैं और इस महीने के आखिर ताक 49 लैब और सक्रिय हो जाएंगी।

गौरतलब हो कि, इस वक्त का जो ताजा मामला है वो महाराष्ट्र के पुणे से है, वहां एक महिला कोविड-19 से संक्रमित पाई गई। अधिकारी ने कहा कि इसके साथ ही महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 42 हुई। पुणे में जिस महिला को संक्रमित पाया गया उसकी उम्र 28 साल है। महिला फ्रांस और नीदरलैंड की यात्रा पर गई थी। जिला कलेक्टर नवल किशोर राम ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, ‘महिला 15 मार्च को भारत लौटी थी। उसे 17 मार्च को यहां अस्पताल में भर्ती कराया गया।’

Load More By Bihar Desk
Load More In ताजा खबर
Comments are closed.

Check Also

जेपी के विकास मॉडल से दूर होगी बेरोजगारी, अगले वर्ष पांच जून को होगा राष्ट्रीय आयोजन

मुजफ्फरपुर । लोकनायक जयप्रकाश के मुशहरी आगमन के 50 साल पूरा होने पर विचार गोष्ठी का आयोजन …